Happy Navratri 2019 ये इमेज, मैसेज, SMS भेजकर अपने रिश्तेदारों, दोस्तों को दें शुभकामनाएं

Happy Navratri 2019 Wishes Images, Wallpapers, Pics शाारदीय नवरात्रि का नौ दिवसीय पावन पर्व 29 सितंबर रविवार से शुरू होगा। नवरात्रि के दौरान मां दुर्गा के सभी नौ रूपों की पूजा की जाती है। शारदीय नवरात्रि को मुख्‍य नवरात्रि माना जाता है। हिन्‍दू कैलेंडर के अनुसार यह नवरात्रि शरद ऋतु में अश्विन शुक्‍ल पक्ष से शुरू होती हैं और पूरे नौ दिनों तक चलती हैं। मां दुर्गा इस बार सर्वार्थसिद्धि और अमृत सिद्धि योग में हाथी पर सवार होकर रविवार को हमारे घर पधारेंगी। फिर 9 दिन बाद घोड़े पर विदा होंगी। घट स्थापना प्रतिपदा तिथि रविवार को सर्वार्थसिद्धि व अमृत सिद्धि योग में होगी। पंडित विवेक गैरोला ने बताया कि 29 सितंबर, 2 अक्टूबर और 7 अक्टूबर के दिन दो-दो योग रहेंगे। इन योगों में नवरात्र पूजा काफी शुभ रहेगी।  अन्य त्यौहारों की तरह नवरात्रि में भी अपनों को शुभ कामना संदेश, बधाई संदेश भेजना व हैप्पी नवरात्रि बोलने का प्रचलन है। ऐसे में नवरात्रि शुरू होने से कुछ पहले ही लोग एक दूसरे को शुभकामना संदेश भेजते हैं और इस पर्व पर खुशी जाहिर करते हैं। यहां हम आपको कुछ चुनिंदा शुभकामना संदेश भेज रहे हैं जिन्हें आप अपने प्रियजनों और दोस्तों को भेजनकर हैप्पी नवरात्रि बोल कसते हैं-

1- ॐ सर्वमंगल मांगल्ये शिवे सर्वार्थसाधिके
शरण्ये त्रयम्बके गौरी नारायणी नमोस्तुते !!
Happy Navratri 2019

 

2 - या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै नमो नमः Happy Navratri 2019

2 – या देवी सर्वभूतेषु शक्ति रूपेण संस्थिता, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै, नमस्तस्यै नमो नमः Happy Navratri 2019

 

हो जाओ तैयार, माँ अम्बे आने वाली है, सजा लो दरबार माँ अम्बे आने वाली हैं, तन, मन और जीवन हो जायेगा पावन, माँ के कदमो की आहट से गूँज उठेगा आँगन।। शुभ नवरात्र 2019

Happy Navratri 2019 Wishes Images, Messages, Photos, and Status: नवरात्रि पूजा कल यानी 29 सितंबर से शुरू हो रही है और 7 अक्टूबर को समाप्त होगी। पौराणिक मान्यता के अनुसार, देवी दुर्गा ने असुर महिषासुर के साथ युद्ध किया और विजयी हुई। नवरात्रि वही दिन है जिस दौरान मां दुर्गा का धरती पर आगमन हुआ था। हिंदू कैलेंडर के अनुसार, त्योहार अश्विन के महीने में मनाया जाता है, जो कि आमतौर पर ग्रेगोरियन कैलेंडर के अनुसार सितंबर और अक्टूबर में पड़ता है। नव दुर्गा की पूजा का आरंभ कलश स्थापना और ज्योति जलाकर किया जाता है।

 

admin